सुन के भक्तों की पुकार लिरिक्स Sun Ke Bhagto Ki Pukar Bhajan Lyrics

सुन के भक्तों की पुकार लिरिक्स Sun Ke Bhagto Ki Pukar Bhajan Lyrics Shiv Bhajan



सुन भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर....

भस्मी रमाये देखो डमरू बजाये,
कैसा निराला भोले रूप सजाये,
गले में है सर्पो का हार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर.....

मृग चाल पहने है जटाओ में गंगा,
चम चम चमकता है माथे पे चंदा,
गौरी मैया के श्रृंगार होके नंदी में सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर....

देवों के देव इनकी महिमा महान है,
भोले भक्तों के ये तो भोले भगवान है,
करने भक्तों का उद्धार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर....



श्रेणी : शिव भजन



काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर】Sawan Special Shiv Bhajan 2022】Shiv Ji Ke Bhajan】Bholenath Bhajan

सुन के भक्तों की पुकार लिरिक्स Sun Ke Bhagto Ki Pukar Bhajan Lyrics, Shiv Bhajan, Bholenath Bhajan

Bhajan Tags: Lyrics in Hindi, Lyrics Songs Lyrics,Bhajan Lyrics Hindi,Song Lyrics,bhajan lyrics,ytkrishnabhakti,bhajan hindi me,hindi me bhajan,aarti,khatu shyam bhajan,lyrics hindi me,naye naye bhajan,bhajan dairy,bhajan ganga,bhajano ke bol,nay nay bhajan,bhajan in hindi lyrics,song lyrics,lyrics,ytkrishnabhakti lyrics,khatu shyam bhajan,shyam bhajan lyrics,bhajano ke bol,filmi bhajan,bhajan lyrics,lyrics of,shiv bhajan lyrics,sun ke bhagtobki pukar,sun ke bhagtobki pukar bhajan,sun ke bhagtobki pukar lyrics,Shiv Bhajan,sun ke bhagtobki pukar hindi bhajan,sun ke bhagtobki pukar,sun ke bhagtobki pukar bhajan,sun ke bhagtobki pukar lyrics,Shiv Bhajan,sun ke bhagtobki pukar hindi bhajan.


Note :- वेबसाइट को और बेहतर बनाने हेतु अपने कीमती सुझाव नीचे कॉमेंट बॉक्स में लिखें व इस ज्ञानवर्धक ख़जाने को अपनें मित्रों के साथ अवश्य शेयर करें।


कोई टिप्पणी नहीं

एक टिप्पणी भेजें