केदारनाथ - Kedarnath

केदारनाथ - Kedarnath
केदारनाथ मंदिर, भारत के उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। यह गढ़वाल हिमालय श्रृंखला पर स्थित है और हिंदू धर्म के सबसे प्रतिष्ठित और पवित्र मंदिरों में से एक माना जाता है। इस मंदिर की ऊंचाई 3,583 मीटर है, जिससे यह 12 ज्योतिर्लिंगों में सबसे ऊंचा है। मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। यह गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के साथ मिलकर चार धामों में से एक है, जो हिंदू तीर्थयात्रियों के लिए महत्वपूर्ण है।

मंदिर के खुलने का समय वार्षिक रूप से नियमित रूप से निर्धारित किया जाता है। साल के शुरुआती दिनों में, जब सर्दी का मौसम शुरू होता है, मंदिर के कपाट कार्तिक मास (अक्टूबर/नवंबर) के पहले दिन अनुष्ठानों के बीच बंद कर दिए जाते हैं। उसके बाद, शिव की चल मूर्ति को ऊखीमठ (रुद्रप्रयाग जिले) के ओंकारेश्वर मंदिर में स्थानांतरित कर दिया जाता है। मंदिर के कपाट फिर से खुलने की तिथि वैशाख मास (अप्रैल/मई) के अवसर पर निश्चित की जाती है और इस दिन से मंदिर में दर्शन की अनुमति होती है। श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में शिवरात्रि के अवसर पर तय होती है। इसके अलावा, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट अक्षय तृतीया के दिन खुलते हैं।

अतिरिक्त दर्शनीय स्थलों में गौरीकुंड शामिल है, जो केदारनाथ मंदिर के जाने वाले ट्रेक की शुरुआती बिंदु है। इसे प्राकृतिक ऊष्मीय झरनों से घिरा हुआ है और यहां तीर्थयात्रियों को केदारेश्वर (शिव) के पवित्र दर्शन से पहले स्नान करने का अवसर मिलता है। यहां एक प्राचीन गौरी देवी मंदिर भी है और गौरीकुंड से आधा किलोमीटर दूरी पर सिरकाटा गणेश का मंदिर स्थित है। गाथा के अनुसार, यह स्थान वहां है जहां शिव ने गणेश के सिर को काट दिया और फिर उसे एक हाथी के सिर के साथ जोड़ दिया।

मंदिर परिसर में दक्षिण दिशा में एक और प्राचीन मंदिर है, जो भैरव नाथ को समर्पित है। इसे मान्यता है कि भैरव नाथ सर्दियों के मौसम में, जब मंदिर बंद होता है, मंदिर परिसर की रखवाली करते हैं।

इस तरह से, केदारनाथ मंदिर के बारे में यह जानकारी उसके समय और खुलने की विधि के साथ दी गई है, साथ ही गौरीकुंड और भैरव मंदिर जैसे दर्शनीय स्थलों का वर्णन भी किया गया है। यहां जाने वाले ट्रेक और धार्मिक महत्व से जुड़े स्थानों का वर्णन भी किया गया है।

Leave a comment

आपको भजन कैसा लगा हमे कॉमेंट करे। और आप अपने भजनों को हम तक भी भेज सकते है। 🚩 जय श्री राम 🚩

Previous Post Next Post
×