ना कर इतना सितम मोहन (naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai)

ना कर इतना सितम मोहन



ना कर इतना सितम मोहन
हम इस जग के सताए हैं
हारे हैं खुद से ही बाबा
तभी तेरे दर पे आये हैं

तेरी रेहमत के किस्से सुन
जगा विश्वास ये मन में
बदल देगा तू किस्मत को
यही उम्मीद लाये हैं

क्यों पत्थर बन के बैठे हो
ज़रा नज़रें मिलाओ तो
ना जाने कितने अश्क़ों को
इन आँखों ने बहाएं हैं

सहने की ना बची हिम्मत
वरना आगे भी सेह लेते
बेगाना क्यों समझ बैठे
नहीं तेरे पराये हैं

कहे रूबी रिधम तुमसे
तोड़ो ना आस मनमोहन
पसारे हाथ बैठे हैं
चरणों में सर झुकाये हैं

यह भी देखें : ये जग सारा एक तरफ मेरी माई है



श्रेणी : खाटू श्याम भजन



Na Kar Itna Sitam Mohan | Sad Shyam Bhajan | ना कर इतना सितम मोहन हम इस जग के सताए | Sharda Pushp

ना कर इतना सितम मोहन (Naa Kar Itna Sitam Mohan Hum Is Jag Ke Satay Hai) Lyrics, Khatu Shyam Bhajan, By Singer: Sharda Pushp Ji


Bhajan Tags: naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai bhajan,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai hindi bhajan,morning bhajan,newest bhajan,sawan special bhajan,sawan ke bhajan,shivratri bhajan,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai hindi lyrics,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai in hindi lyrics,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai hindi me bhajan,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai likhe hue bhajan,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai lyrics in hindi,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai hindi lyrics,naa kar itna sitam mohan hum is jag ke satay hai lyrics.

Leave a comment

आपको भजन कैसा लगा हमे कॉमेंट करे। और आप अपने भजनों को हम तक भी भेज सकते है। 🚩 जय श्री राम 🚩

Previous Post Next Post
×